Uddhav Thackeray: बीजेपी के गुनाह ने भारत को किया शर्मिंदा, अरब देशों के सामने हम घुटने टेकने पर हुए मजबूर: उद्धव ठाकरे

Uddhav Thackeray: बीजेपी के गुनाह ने भारत को किया शर्मिंदा, अरब देशों के सामने हम घुटने टेकने पर हुए मजबूर: उद्धव ठाकरे
Spread the love
Image Source : ANI FILE PHOTO
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

Highlights

  • महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बीजेपी पर बोला बड़ा हमला
  • बीजेपी के गुनाह ने भारत को किया शर्मिंदा: उद्धव ठाकरे
  • बीजेपी ने गुनाह किया तो देश क्यों माफी मांगे: उद्धव ठाकरे

Uddhav Thackeray: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पैगम्बर मोहम्मद पर बीजेपी की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा के बयान को गलत बताया है। सीएम ने कहा कि बीजेपी के कारण देश को शर्मिंदा होना पड़ा है। ठाकरे ने कहा- ‘जैसे हमारे भगवान का अपमान नहीं होना चाहिए, वैसे ही उनके भगवान का भी अपमान नहीं होना चाहिए। बीजेपी की इस गलती से देश को मिडिल ईस्ट देशों के सामने घुटने टेकने पड़े हैं। भाजपा प्रवक्ता द्वारा उपयोग किए गए शब्दों ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की छवि खराब की है। इससे भाजपा की नहीं बल्कि देश की छवि खराब हुई है।’

ठाकरे ने कहा- ‘बीजेपी के प्रवक्ता या बीजेपी द्वारा बोले गए शब्द, किसी भी मुद्दे पर भारत का रुख नहीं हो सकते। मैं संघ प्रमुख मोहन भागवत से पूछना चाहता हूं कि क्या उन्हें बीजेपी से इस तरह के व्यवहार की उम्मीद थी, जैसा आज देखने को मिल रहा है?’ उन्होंने कहा- ‘अपमान हम सहन कर रहे हैं। बीजेपी ने गुनाह किया तो देश क्यों माफी मांगे? बीजेपी का प्रवक्ता देश का प्रवक्ता नहीं हो सकता।’ ठाकरे ने कहा- ‘देश में महंगाई बढ़ रही है और डॉलर के मुकाबले रुपया कमजोर होता जा रहा है, लेकिन इसको लेकर सरकार गंभीर नहीं है, बल्कि अन्य मुद्दों को उछालकर लोगों को भटकाने की कोशिश की जा रही है।’ 

अपना वादा भूल गई महाराष्ट्र सरकार: फडणवीस 

वहीं, महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने ठाकरे के औरंगाबाद में दिए गए भाषण को कटाक्ष पूर्ण और बिना ठोस आधार वाला बताया है । फडणवीस ने ठाकरे का नाम लिए बिना ट्वीट किया- ‘उन लोगों को देखना विरोधाभासी है जो दूसरों को ज्ञान देते हैं, लेकिन जब निर्णय लेने की बात आती है तो स्वयं इसका पालन नहीं करते हैं। महाराष्ट्र में ईंधन की कीमतों में कोई कमी नहीं हुई है।’ भाजपा नेता ने कहा- ‘किसानों से फसल के नुकसान के लिए भारी मुआवजा देने का वादा किया गया था लेकिन अब उसे भुलाया जा चुका है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *