Rajya Sabha elections: हम उन नेताओं में से नहीं है जो राज्यसभा चुनाव में न्यूट्रल रहेंगे, मन मुताबिक प्रस्ताव या आश्वासन देने वाले को देंगे वोट: हितेंद्र ठाकुर

Rajya Sabha elections: हम उन नेताओं में से नहीं है जो राज्यसभा चुनाव में न्यूट्रल रहेंगे, मन मुताबिक प्रस्ताव या आश्वासन देने वाले को देंगे वोट: हितेंद्र ठाकुर
Spread the love
Image Source : PHOTO/FACEBOOK
Bahujan Vikas Aaghadi chief Hitendra Thakur 

Highlights

  • महाराष्ट्र में राज्यसभा चुनाव से पहले शिवसेना की बढ़ी मुश्किलें
  • छोटे दलों ने शिवसेना के लिए असमंजस की स्थिति खड़ी की
  • मन मुताबिक प्रस्ताव या आश्वासन देने वाले को देंगे वोट: हितेंद्र ठाकुर

Rajya Sabha elections: महाराष्ट्र में राज्यसभा की छह सीटों के लिए हो रहे चुनाव में शिवसेना के लिए मुश्किलें खड़ी होती नजर आ रही है। शिवसेनाननीत महाविकास अघाड़ी सरकार को समर्थन दे रहे छोटे दलों की ओर से आ रहे बयानों ने शिवसेना के लिए असमंजस की स्थिति खड़ी कर दी है। तीन विधायकों वाली पार्टी बहुजन विकास अघाड़ी के मुखिया हितेंद्र ठाकुर ने कहा कि- ”हमारी कुछ मांगे है जो पूरी नही हुई है और जो उसे पूरी करने का आश्वासन देगा या पूरा करेगा उसे वोट देंगे। हमारे सारे विकल्प खुले हैं। बीजेपी हमारे लिए अछूत नही है। उनके नेता भी मेरे संपर्क में है। मैं और मेरे दो विधायक (कुल 3) 10 जून को वोट डालेंगे, लेकिन किसे यह अभी तय नही किया है। शिवसेना से लेकर हर किसी का कॉल आ रहा है, हम अपने मतदाताओं और दूसरे पार्टी पदाधिकारियों से बात करके फिर तय करेंगे।”

ठाकुर ने कहा- ”जब महाविकास अघाड़ी सरकार को समर्थन दिया था तो उन्होंने हमसे कई वादे किए थे। जिसमें कई मंत्रियों ने हमें मदद की और हमारी सुनवाई हुई लेकिन कई दूसरे भी मंत्री हैं जो मिलते नहीं या बात नहीं करते उनके बारे में सरकार को सोचना चाहिए। पिछले 4-5 दिनों से जो मुम्बई में राज्यसभा चुनाव के लिए विधायकों को होटल में रखा जा रहा है यह दुर्भाग्यपूर्ण है, लेकिन इस तरह के चुनाव से हम निर्दलीय या छोटे दलों के विधायकों की क्या समस्याएं है? लोगों की क्या परेशानी है? यह बड़े दलों को हमारी अहमियत समझ आती है। इसलिए विधानपरिषद और राज्यसभा के ऐसे चुनाव होने चाहिए”

‘पालघर इलाके में पानी, सड़क, बिजली की सुविधाएं कम’

उन्होंने कहा- ”मैं जिस पालघर इलाके से आता हूं वहां पानी, बिजली और ट्रांसपोर्ट की सबसे बड़ी समस्या है। यह पूरा इलाका आदिवासी बहुल है। रोज़ाना भारी संख्या में लोग वसई-विरार से मुम्बई काम करने जाते हैं। इस इलाके में आबादी बहुत तेज़ी से बढ़ रही है। सस्ते घरों के चलते लोग बहुत आ रहे हैं, लेकिन उस हिसाब से पानी, सड़क, बिजली की सुविधाएं नहीं मिल रही है। मैंने कई बार शिकायत दी, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।”

‘बीजेपी के पूर्व मंत्री गिरीश महाजन मुझसे मिलने आये थे’

ठाकूर ने कहा- ”विलासराव देशमुख के कार्यकाल में किसी चुनाव में मेरे एक वोट से हार जीत का फैसला होने वाला था, तब कि कोंग्रेस सरकार ने मेरी 250 करोड़ के एक रोड प्रोजेक्ट के लिए तुरंत पास कर दिया जो मैं लंबे समय से कोशिश कर रहा था। मैं इस बार भी देख रहा हूं शायद कोई चमत्कार हो जाये। मेरे कोंग्रेस, शिवसेना, बीजेपी, एनसीपी सभी पार्टी नेताओं से अच्छे संबंध है, इसलिए मेरे लिए कोई भी अछूता नही है। परसो बीजेपी के पूर्व मंत्री गिरीश महाजन मुझसे मिलने आये थे।”

‘लास्ट के 5 मिनट में हमें जो सही लगेगा उसे वोट दे देंगे’

हितेंद्र ठाकुर ने कहा- ”हम उन पार्टी या नेताओं में से नहीं है जो राज्यसभा चुनाव में न्यूट्रल रहेंगे। मैं और मेरे दानों विधायक वोट ज़रूर डालेंगे। अगर MVA या बीजेपी से मन मुताबिक प्रस्ताव या आश्वासन नहीं मिला तो 10 जून की लास्ट के 5 मिनट में हमें जो सही लगेगा उसे वोट दे देंगे, लेकिन वोट देंगे ज़रूर।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *