President Election : संयुक्त विपक्ष के उम्मीदवार होंगे शरद पवार ? सियासी गलियारों में हलचल बढ़ी

 Sharad Pawar - India TV Hindi
Image Source : FILE
 Sharad Pawar 

Highlights

  • मल्लिकार्जुन खड़गे ने शरद पवार से की मुलाकात
  • ममता ने 15 जून को विपक्षी नेताओं की बुलाई बैठक

President Election : राष्ट्रपति चुनाव को लेकर विपक्षी दलों के बीच बैठकों का सिलसिला जारी है। 18 जुलाई को होनेवाले राष्ट्रपति चुनाव (President Election) के लिए उम्मीदवार के नाम पर मंथन चल रहा है। इस बीच मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो विपक्षी दलों की बैठकों में एनसीपी (NCP) सुप्रीमो शरद पवार (Sharad Pawar ) के नाम पर चर्चा हो रही है। हालांकि इस संबंध में अभी तक खुल कर कुछ भी नहीं कहा गया है लेकिन यह माना जा रहा है कि अगर विपक्षी दलों के बीच सहमति बनती है तो शरद पवार को संयुक्त विपक्ष की ओर से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया जा सकता है।

इस बीच गुरुवार को कांग्रेस के सीनियर नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने शरद पवार से मुलाकात की । खड़गे ने शरद पवार से मुलाकात के बाद मीडिया से कहा था कि पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने राष्ट्रपति राष्ट्रपति चुनाव के लिए साझा उम्मीदवार उतारने की संभावना पर सभी समान विचारधारा वाले दलों के साथ बातचीत करने को कहा है। 

आप नेता संजय सिंह भी पवार से मिले

इससे पहले रविवार को आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने राष्ट्रपति चुनाव चर्चा के लिए शरद पवार से मुलाकात की थी। सूत्रों के मुताबिक यह संजय सिंह की शरद पवार से मुलाकात इसलिए अहम हो जाती है क्योंकि  2019 के लोकसभा चुनावों से पहले, यह पवार ही थे जिन्होंने आप और कांग्रेस से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का मुकाबला करने के लिए एक सहमति बनाने का आग्रह किया था। हालांकि, बात नहीं बन पाई। दिल्ली और पंजाब समेत कई राज्यों में आप और कांग्रेस एक-दूसरे के प्रतिद्वंद्वी हैं।

ममता बनर्जी ने 15 जून को बुलाई बैठक

उधर ममता बनर्जी ने विपक्षी दलों को चिट्टी लिखकर उनसे आगामी राष्ट्रपति चुनाव के लिए संयुक्त रणनीति तैयार करने को लेकर 15 जून को नयी दिल्ली में बुलाई गई बैठक में भाग लेने का अनुरोध किया है। ममता बनर्जी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, माकपा महासचिव सीताराम येचुरी सहित 22 विपक्षी नेताओं को एक पत्र भेजा। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव ऐसे समय सभी प्रगतिशील विपक्षी दलों को राष्ट्रीय राजनीति के भविष्य के परिदृश्य पर विचार-विमर्श करने का सही अवसर प्रदान करता है, जब विभाजनकारी ताकतें देश को त्रस्त कर रही हैं। ममता ने राष्ट्रपति चुनाव के मद्देनजर 15 जून को अपराह्न तीन बजे कॉन्स्टिट्यूशन क्लब, नयी दिल्ली में मीटिंग बुलाई है।

18 जुलाई को राष्ट्रपति चुनाव 

बता दें कि अगले राष्ट्रपति के लिए चुनाव 18 जुलाई को होगा। लोकसभा, राज्यसभा और राज्य की विधानसभाओं में भारतीय जनता पार्टी के संख्या बल को देखते हुए माना जा रहा है कि वह अपने उम्मीदवार को इस चुनाव में आसानी से जीत दिला सकती है। 

Leave a Comment