हावड़ा में भड़की हिंसा के बाद सख्त हुई पुलिस, मामले में 60 गिरफ्तार

हावड़ा में भड़की हिंसा के बाद सख्त हुई पुलिस, मामले में 60 गिरफ्तार
Spread the love
Image Source : PTI
Howrah Violence

Highlights

  • हावड़ा जिले में आज फिर हुईं पुलिस-प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पें
  • हिंसा के सिलसिले में कम से कम 60 लोगों को किया गया गिरफ्तार
  • हावड़ा के कई इलाकों में धारा-144 लागू, इंटरनेट को किया गया बंद

Howrah Violence: पैगंबर मोहम्मद पर बीजेपी की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा की विवादास्पद टिप्पणी को लेकर बंगाल के हावड़ा समेत कुछ हिस्सों में हिंसक विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। आज फिर हावड़ा जिले में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पें हुईं. जिले में हिंसा के सिलसिले में कम से कम 60 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी। 

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि दंगा, हत्या के प्रयास और सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने के लिए भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। बीजेपी से निलंबित नेताओं नुपुर शर्मा और नवीन जिंदल की भड़काऊ टिप्पणियों को लेकर शुक्रवार को हावड़ा जिले में व्यापक हिंसा भड़क गई। कुछ क्षेत्रों में सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू करने के अलावा, जिले में इंटरनेट को बंद कर दिया गया है। 

हावड़ा के नए कमिश्नर बने IPS प्रवीण त्रिपाठी

हिंसा के बाद राज्य सरकार ने हावड़ा (ग्रामीण) के पुलिस अधीक्षक और हावड़ा (शहर) के पुलिस आयुक्त का तबादला कर दिया है। कोलकाता पुलिस के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त प्रवीण त्रिपाठी को हावड़ा (शहर) का नया पुलिस आयुक्त बनाया गया है। कोलकाता पुलिस की उपायुक्त (दक्षिण-पश्चिम) स्वाति भंगालिया को हावड़ा (ग्रामीण) का नया पुलिस अधीक्षक बनाया गया है। 

हिंसक घटनाओं के पीछे कुछ राजनीतिक दलों का हाथ- सीएम

वहीं, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दावा किया कि हावड़ा जिले में हुई हिंसक घटनाओं के पीछे कुछ राजनीतिक दलों का हाथ है। उन्होंने राज्य में दंगे भड़काने की कोशिश करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का वादा किया। उन्होंने पैगंबर मोहम्मद पर विवादास्पद टिप्पणी के संदर्भ में बीजेपी के दो नेताओं पर कार्रवाई और इस मामले में शुरू हुए हिंसक विरोध प्रदर्शनों का जिक्र करते हुए सवाल किया कि पार्टी द्वारा किए गए ‘पाप’ का खामियाज़ा आम लोगों को क्यों भुगतना चाहिए। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *