सड़क हादसे का शिकार हुआ कश्मीर का लड़का, भारत सरकार ने बांग्लादेश से कराया एयरलिफ्ट

सड़क हादसे का शिकार हुआ कश्मीर का लड़का, भारत सरकार ने बांग्लादेश से कराया एयरलिफ्ट
Spread the love
Image Source : ANI
Shoaib Lone of Rajouri injured in a road accident in Bangladesh

Highlights

  • कश्मीर में राजौरी के शुऐब लोन का ढाका में एक्सीडेंट
  • पीएमओ के दखल से एयर एंबुलेंस से भारत लाया गया
  • दिल्ली के AIIMS चला रहा शुऐब का इलाज

Jammu Kashmir: केंद्र सरकार ने बांग्लादेश में एक हादसे में गंभीर रूप से घायल हुए एक मेडिकल छात्र को सोमवार को एयरलिफ्ट कराया है और उसे दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में भर्ती कराया है जहां उसका इलाज किया जा रहा है। छात्र को हवाई मार्ग से भारत लाया गया। जम्मू कश्मीर भाजपा प्रमुख रविंदर रैना ने सोमवार को यह जानकारी दी। 

मेडिकल का छात्र है शुऐब लोन

केंद्र शासित प्रदेश के राजौरी जिले के रहने वाले शुऐब लोन ढाका के बरिंद मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस के अंतिम वर्ष के छात्र हैं। लोन सहित कॉलेज के तीन छात्र तीन जून को एक दुर्घटना के शिकार हो गए। इसमें एक छात्र की मौत हो गई जबकि लोन समेत दो अन्य जख्मी हो गए। राजौरी पहुंचे रैना ने छात्र के पिता मोहम्मद अस्काम लोन से मुलाकात की। रैना ने कहा, “राजौरी की अपनी यात्रा के दौरान जैसे ही मुझे उनके पिता से दुर्घटना के बारे में पता चला, मैंने प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) से मदद मांगी। लड़का अभी कोमा में है। उसके माता-पिता मदद चाहते हैं।” 

पीएम मोदी ने खुद किया बांग्लादेश फोन 

रैना ने पीटीआई-भाषा से कहा, “ पीएमओ के दखल से एमबीबीएस छात्र शुऐब लोन को ढाका से एक एयर एंबुलेंस से लाया गया और नयी दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया है। सरकार उसे पूरी मदद मुहैया कराएगी।” उन्होंने कहा कि पीएमओ ने ब्योरा मांगा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद बांग्लादेश में भारत के उच्चायुक्त को फोन किया ताकि छात्र के परिवार को सभी जरूरी सहायता प्रदान की जा सके। रैना ने कहा कि उच्चायुक्त ढाका के एवर केयर अस्पताल में घायल छात्र को देखने पहुंचे और राजौरी में उसके परिवार से संपर्क किया। 

“सारा पैसा इलाज में हो गया खर्च”

रैना ने इस संबंध में त्वरित कार्रवाई के लिए प्रधानमंत्री मोदी को धन्यवाद दिया। शुऐब के पिता ने कहा कि परिवार ने किसी तरह 10 लाख रुपये का इंतजाम किया था जिसमें लोगों ने चंदा दिया था लेकिन सारा पैसा उसके इलाज में खर्च हो गया। उसके पिता जम्मू कश्मीर सरकार में चुतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *