रात 9 बजे के बाद नहीं मिलेगा पेट्रोल-डीजल! राशनिंग की वजह से 4500 पेट्रोल पंप सूखे

रात 9 बजे के बाद नहीं मिलेगा पेट्रोल-डीजल! राशनिंग की वजह से 4500 पेट्रोल पंप सूखे
Spread the love
Image Source : PTI/FILE
Petrol Diesel Update

Highlights

  • HPCL और BPCL के सेल्स ऑफिसरों का पंप मालिकों को निर्देश- 8 घंटे ही ड्यूटी के लिए रखें
  • घाटा कम करने के लिए तेल की राशनिंग कर रही हैं ये दोनों कंपनियां
  • केंद्र सरकार ने हालही में घटाई थी एक्साइज ड्यूटी

Petrol Diesel Update: पेट्रोल-डीजल आम आदमी के दैनिक जीवन का एक अहम हिस्सा है। जब भी कोई ऐसी खबर आती है कि अब पेट्रोल-डीजल मिलने में ग्राहकों को समस्या होगी तो पेट्रोल पंपों पर ग्राहकों की लंबी कतार फौरन तेल भरवाने के लिए दिखाई देने लगती है। कुछ ऐसा ही मामला राजस्थान से सामने आ रहा है।

राजस्थान में दो तेल कंपनियों HPCL (हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड) और BPCL (भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड) के सेल्स ऑफिसरों ने पेट्रोल पंप डीलर्स से कहा है कि वे अपनी ड्यूटी के घंटे 8 ही रखें यानी रात 9 बजे के बाद पेट्रोल-डीजल ना बेचें। दरअसल ये दोनों कंपनियां घाटा कम करने के लिए तेल की राशनिंग शुरू कर चुकी हैं। 

बता दें कि तेल की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए केंद्र सरकार ने हालही में एक्साइज ड्यूटी घटाई है। ऐसे में तेल कंपनियां चाहती हैं कि उनकी बिक्री को घटाया जाए, जिसके लिए सेल्स अधिकारी चाहते हैं कि तेल की सप्लाई कम की जाए। 

राजस्थान में पेट्रोल पंप डीलर्स कह रहे हैं कि उन्हें सप्लाई कम मिल रही है, जिसकी वजह से रविवार को तो राजस्थान के 6700 पंप में से 4500 पंपों पर तेल की इतनी कमी हो गई कि वो ड्राई होने की कगार पर पहुंच गए। वहीं तेल कंपनियों के अधिकारियों की तरफ से इस कमी पर कोई स्टैंड खुलकर सामने नहीं आया है। 

खबर है कि ये दोनों तेल कंपनियां मई के दूसरे हफ्ते से तेल की राशनिंग कर रही हैं। इन कंपनियों के द्वारा पेट्रोल-पंपों पर 2 से 3 दिनों में सप्लाई हो रही है। तेल डिपो से तेल ना मिलने पर पेट्रोल पंप डीलर्स परेशान हैं क्योंकि ग्राहक उन्हें खरी-खोटी सुना रहे हैं। 

कंपनियों ने कही घाटे की बात

दरअसल केंद्र सरकार ने 21 मई को पेट्रोल पर 9.55 रुपए और डीजल पर 7.20 रुपए लीटर एक्साइज ड्यूटी घटाई थी। ऐसे में BPCL और HPCL कम मुनाफे की बात कह रहे हैं और उनके अधिकारियों का मानना है कि इस फैसले के बाद से उन्हें डीजल पर 14 रुपए और पेट्रोल पर 11 से 12 रुपए प्रति लीटर का नुकसान हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *