बार-बार पेशाब आने के कारण तथा इस समस्या से निजात पाने के घरेलू एवं आयुर्वेदिक उपाय।

पेशाबका आना हमारे शरीर के खानेपीनेपर निर्भर करता है। 

आप जितना ज़्यादालिक्विड डाइट का सेवन करेंगे, आपको उतना ही फ्रिक्वेंटली पेशाबआने लगेगा। पेशाब आना हमारे शरीर के लिए बहुतही अच्छा माना जाता है। 

यह हमारे शरीरकी गर्मी और हानिकारक तत्वोंको शरीर से बाहर निकालनेका काम करता है। इसलिए लोग बोलते हैं कि हमें ज़्यादापानी का सेवन करनाचाहिए ताकि हमें ज़्यादा से ज़्यादा पेशाबआए और हम अपनेशरीर से ज़्यादा सेज़्यादा हानिकारक तत्वों को बाहर निकालपाएं। 

लेकिन क्या आप जानते हैं? कि बारबार पेशाब आना किसी बीमारी का संकेत होसकता है। 

अगर किसी व्यक्ति को सामान्य सेज़्यादा पेशाब आने लगे तो यह एकबीमारी भी हो सकतीहै और यह हमारेलिए खतरनाक साबित हो सकती है।कुछ लोगों की शिकायत होतीहै कि उन्हें बारबार पेशाब आता है। 

बारबार पेशाब आने के बहुत से  कारणहो सकते हैं।

आइएजानते हैं कि किनकिनबीमारियों की वजह सेहमें सामान्य से ज़्यादा पेशाबआता है। या सामान्य सेज़्यादा पेशाब आना  किनकिन बीमारियों का संकेत होसकता है।

 (1) मधुमेह / डायबिटीज़

जिसव्यक्ति को मधुमेह याडायबिटीज़ की बीमारी होतीहै ऐसे व्यक्ति को बार बारपेशाब आता है इसलिए अगरआपको बारबार पेशाब आता है तो आपडॉक्टर से परामर्श अवश्यलें तथा आपको मधुमेह की पुष्टि होनेपर यथाशीघ्र इलाज़ शुरू करना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने परआपकी एक बीमारी सेअन्य बीमारियां भी जन्म लेसकती हैं तथा यह बीमारियां गंभीररूप ले सकती हैं।

 (2) यू.टी.आईयूरिनरी ट्रैक्ट इनफेक्शन

शरीरमें स्थित मूत्र मार्ग में किसी प्रकार का इन्फेक्शन होनाभी बारबार पेशाब आने का कारण होसकता है।

 (3) किडनीइन्फेक्शन

किडनीमें किसी भी प्रकार केइंफेक्शन की वजह सेभी बारबार पेशाब के लिए जानापड़ सकता है।

 (4) प्रोस्टेटग्लैंड

पुरुषमें प्रोस्टेट ग्लैंड के बढ़ने सेभी बारबार पेशाब आने लगता है और इसकीपुष्टि होने पर समय सेइलाज़ कराया जानाबहुत जल्द एक गंभीर समस्याका रूप ले लेता है।

 (5) यूरिनब्लैडर

यूरिनब्लैडर के सामान्य सेअधिक सक्रिय हो जाने परया ब्लैडर में मूत्र रखने की क्षमता कमहो जाने पर बारबारपेशाब आने लगता है।

 (6) मानसिकस्थिति

बारबार पेशाब आने का कारण सिर्फशारीरिक रोग ही नहीं बल्किमानसिक असंतुलन भी हो सकताहै। जैसे कि ज़्यादा टेंशनलेना, अधिक भयभीत होना आदि। कभीकभी आपने महसूस किया होगा कि जब आपकिसी भी वस्तु, अवस्थाया क्षण से भ्रमित होतेहैं तो आपको बारबार पेशाब का प्रेशर बननेजैसा अनुभव होता है।

 (7) ऋतुपरिवर्तन

सर्दियोंमें गर्मियों के मुकाबले ज़्यादापेशाब आता है, क्योंकि हमारे शरीर में मौजूद एक्स्ट्रा वाटर पसीने के रूप मेंशरीर से बाहर नहींनिकल पाता। इसलिए सर्दी में यदि आपको ज़्यादा पेशाब आता है तो यहघबराने की बात नहींहै, हां किंतु यह ज़रूरी हैकि आप यह जरूरदेखें कि पेशाब कारंग क्या है, अगर पेशाब का रंग सामान्यनहीं है तो यहसमस्या का संकेत है।

 (8) गर्भवतीस्त्रियां

बारबार पेशाब आने की समस्या गर्भवतीमहिलाओं में ज़्यादा होती है। इसलिए अगर आप गर्भवती हैंतथा इस दौरान आपकोबारबार पेशाब आता है तो आपकोघबराने की बिल्कुल भीज़रूरत नहीं है क्योंकि यहआपके लिए एक सामान्य स्थितिहै।

 (9) ड्रिंक्स

जीहां! चाय, कॉफी, अल्कोहल के अधिक सेवनसे पेशाब बार बार आता है।

 (10) पेटमें कीड़े

यदिआपके पेट में कीड़े हों तो आपको बारबार पेशाब आने की समस्या होसकती है। यह समस्या ज़्यादातरकम उम्र के बच्चों मेंहोती है।

 (11) दवा

कईबार आप किसी रोगके उपचार में दवाओं का सेवन करतेहैं। उन दवाओं केकारण भी ज़्यादा पेशाबआने लगता है।

आइएअब हम जान लेतेहैं, कि बारबारपेशाब आने की समस्या सेनिजात पाने के लिए हमकिनकिन घरेलू उपायों की मदद सेइस समस्या से छुटकारा पासकते हैं?

 (1) सुबहशाम तिल का लड्डू खानेसे बार बार पेशाब आने की समस्या मेंकमी आती है।

 (2) आपअपने भोजन में दही शामिल करें। दही में बैक्टीरिया होता है जो मूत्राशयमें मौजूद हानिकारक बैक्टीरिया को बढ़ने सेरोकता है।

 (3) रातको अगर आपको बारबार पेशाब आने की समस्या हैतो आप सेब कासेवन करें। इसके अतिरिक्त आप दिन मेंदो बार गाजर के जूस कासेवन भी कर सकतेहैं। ऐसा करने से बारबारपेशाब आने की समस्या सेछुटकारा मिलता है।

 (4) बारबार पेशाब आने की समस्या सेछुटकारा पाने के लिए मसूरकी दाल का सेवन भीफायदेमंद होताहै।

 (5) बारबार पेशाब आने की समस्या सेछुटकारा पाने के लिए मेथीका साग एक कटोरी रोज़खाएं। इससे बारबार पेशाब आने की समस्या मेंआराम मिलता है।

 (6) रातको सोने से पहले दोचार दाने छुआरा खाएं तथा एक गिलास दूधपी लें। ऐसा करने से इस समस्यासे छुटकारा मिलेगा।

 (7) पालककी सब्ज़ी या साग शामको खाने से थोड़ी थोड़ीदेर में पेशाब आने वाली समस्या से निजात मिलताहै।

 (8) प्रतिदिनसुबह नाश्ता करने के बाद पकेहुए केले का सेवन करेंऐसा करने से बारबारपेशाब या थोड़ी थोड़ीदेर में पेशाब आने वाली समस्या से छुटकारा मिलताहै।

 (9) अंगूरखाना भी बारबारपेशाब आने की समस्या सेराहत दिलाने के लिए फायदेमंदहै।

 (10) एकचुटकी हल्दी की फांक मारलें  तथासाथ में पानी पी लें ऐसाकरने से कुछ हीदिनों में आपको आराम महसूस होने लगेगा।

 (11) तीनपिस्ता, पांच कालीमिर्च, दो मुनक्का पीसलें और दिन में2 बार इसका सेवन करें इससे भी इस समस्यामें बहुत आराम मिलता है।

 (12) यदिआपको बारबार पेशाब आता है तो आपकॉफी, चाय का सेवन कमकरें या हो सकेतो पूर्णतः त्याग दें। इसके अलावा कोल्ड ड्रिंक्स एंड अल्कोहल का सेवन करनेसे भी परहेज करें।

 (13) आपप्रयास करें कि आप ऐसेखाद्य पदार्थों का सेवन अवश्यकरें जिसमें विटामिनसीकी मात्रा अधिकहो क्योंकि विटामिन सी की मात्राअधिक होने से आपको बारबार पेशाब नहीं आएगा।

आइएअब जान लेते हैं कुछ आयुर्वेदिक उपचार जिनके माध्यम से हम बारबार या थोड़ी थोड़ीदेर में पेशाब आने की समस्या सेखुद को बचा सकतेहैं।

 (1) थोड़ासा नमक, एक चम्मच अजवाइनमें मिला लें और पानी केसाथ इसका सेवन करें। दिन में दो बार इसउपाय को करने सेकुछ ही दिनों मेंबारबार पेशाब आने की समस्या सेछुटकारा मिलेगा।

 (2) पेटमें कीड़े पड़ने के कारण बच्चोंको बारबार पेशाब आता है। यदि बच्चा बिस्तर पर पेशाब करताहै या सामान्य सेअधिक पेशाब करता है तो इसकेइलाज के लिए थोड़ाजायफल घिस लें और एक चौथाईचम्मच की मात्रा मेंबच्चे को चटा देंफिर ऊपर से थोड़ा दूधपिलाएं। 2 से 3 दिन तक इस उपायको करने से बच्चे कीबारबार पेशाब आने वाली समस्या ठीक हो जाएगी।

 (3) एकचम्मच शहद के साथ तीनतुलसी के पत्तों कासेवन प्रतिदिन खाली पेट करें ऐसा करने से बारबारपेशाब आने की समस्या मेंआराम मिलेगा।

 (4) अनारका छिलका पीसकर इसका 5 ग्राम चूर्ण पानी के साथ दिनमें दो बार लेनेसे बार बार पेशाब आना बंद हो जाता है।

 (5) एकगिलास पानी के साथ दिनमें 2 बार आधाआधा चम्मच बेकिंग सोडा लेने से पेशाब कापीएच बैलेंस कंट्रोल में रहेगा। जिससे कि आपको बारबार पेशाब आने की समस्या सेराहत मिलेगी।

 (6) भुनेहुए चने गुड़ के साथ खानेसे बारबार पेशाब आने की परेशानी दूरहो जाती है। 10 से 12 दिन इस उपाय कोकरने से निश्चित रूपसे आपको लाभ मिलेगा।

 (7) गुड़के साथ आंवले का चूर्ण खानेसे पेशाब रुकरुक कर आता है।3 से 4 दिन तक आंवले केरस का सेवन करनेसे भी आपको इसबीमारी से छुटकारा पानेमें काफी फायदा मिलता है।

पेशाब का रंग देखकरशरीर में होने वाली बीमारियों का पता कैसेकरें

 (1) यदिआप के पेशाब कारंग हल्का पीला है तो यहसामान्य बात है।  किंतुअगर आप के पेशाबका रंग हल्का पीला है तो आपसमझ जाएं कि आपके शरीरमें पानी की कमी हैइसके इलाज के लिए आपपानी की मात्रा कोबढ़ाएं तथा लिक्विड डाइट का सेवन अवश्यकरें।

 कुछ लोग जिन्हें बार बार पेशाब आता है तो वहपानी बहुत कम मात्रा मेंपीते हैं या पीना बंदकर देते हैं। आप ऐसा बिल्कुलभी करें। आपभरपूर मात्रा में पानी पिएं ताकि शरीर में मौजूद सभी विरक्त पदार्थों को आसानी सेशरीर से बाहर निकालनेमें शरीर को मदद मिले।

 (2) अगरआप के पेशाब कारंग लाल है तो यहपेशाब में खून आने के संकेत हैं।ऐसे में आप डॉक्टर सेअवश्य मिलें अपनी जांचकरवाएं तथा किसी भी प्रकार कीबीमारी या समस्या कीपुष्टि होने पर उसका यथासंभवइलाज़ अवश्य कराएं।

 (3) अगरपेशाब का रंग कालाया गहरा लाल है तो यहकई प्रकार के रोगों कासंकेत हो सकता है।जैसे लिवर में इन्फेक्शन, किडनी में इन्फेक्शन, या त्वचा संबंधीकई विकारों की तरफ इशाराकरता है, तथा पेशाब का यह रंगअन्य  गंभीररोगों के पनपने यामौजूद होने का संकेत भीहो सकता है।

 कभीकभी ऐसा होता है जब हमअधिक गर्मी के मौसम मेंया किसी सफर पर सामान्य सेअधिक पानी पी लेते हैंया कोल्ड ड्रिंक आदि का सेवन करतेहैं तो उस समयभी हमारा पेशाब थोड़ेथोड़े अंतराल में अधिक मात्रामें आता है तो यहघबराने की बात नहींहै। 

किंतु आप पेशाब केरंग को देखकर यहसमझ सकते हैं की यह स्थितिसामान्य है या किसीरोग का संकेत है, यदि यह स्थिति किसीरोग के प्रति संकेतज़ाहिर करती है तो आपबिल्कुल भी समय लगाएं। डॉक्टर से परामर्श अवश्यलें, क्योंकि इन संकेतों कोइग्नोर करना हमारे लिए कुछ ही समय मेंकिसी बहुत गंभीर बीमारी या शरीर मेंबड़ी समस्या होने की शुरुआत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *