‘नूपुर शर्मा, बुलडोजर…’, जुमे को हुई हिंसा के बाद सामने आया ओवैसी का पहला बयान

‘नूपुर शर्मा, बुलडोजर...', जुमे को हुई हिंसा के बाद सामने आया ओवैसी का पहला बयान
Spread the love
Image Source : PTI
AIMIM Supremo Asaduddin Owaisi.

Highlights

  • ओवैसी ने कहा कि यह सरकार की जिम्मेदारी है कि कहीं हिंसा न होने दे।
  • नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी होनी ही चाहिए: असदुद्दीन ओवैसी
  • ओवैसी ने पूछा कि नूपुर पर कानूनी कार्रवाई करने से कौन रोक रहा है?

Asaduddin Owaisi on Prophet Row: बीजेपी की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा के पैगंबर मोहम्मद के बारे में दिए एक बयान के विरोध में शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद देश के कई हिस्सो में हुई हिंसा पर AIMIM सुप्रीमो असदुद्दीन ओवैसी ने बड़ा बयान दिया है। ओवैसी ने कहा कि यह सरकार की जिम्मेदारी है कि कहीं हिंसा न होने दे। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ओवैसी ने कहा कि नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी होनी ही चाहिए। साथ ही आरोपियों के घर पर बुलडोजर चलने के सवाल पर उन्होंने कहा कि सजा का फैसला कोर्ट करने के लिए कोर्ट है।

‘बहुत सारी जगहों पर प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहा’


शुक्रवार को देश के विभिन्न शहरों में हुए हिंसक प्रदर्शनों के सवाल पर गुजरात के भुज में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ओवैसी ने कहा, ‘लोकतंत्र के लिए यह बहुत जरूरी है कि कहीं पर भी हिंसा न हो। यह सरकार की जिम्मेदारी है कि कहीं हिंसा न होने दे। शुक्रवार को बहुत सारी जगहों पर प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहा। कई जगहों पर हिंसा हुई है, जो नहीं होनी चाहिए थी। किसी को हिंसा नहीं करनी चाहिए, और पुलिस को भी कानून अपने हाथों में नहीं लेना चाहिए। कल रांची में पुलिस फायरिंग में 2 लोगों की मौत हो गई।’

‘नूपुर को सस्पेंड करने से मामला हल नहीं होगा’

ओवैसी ने कहा कि नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी होनी चाहिए, और अपने बयान के लिए सिर्फ माफी मांगने से यह मसला हल होने वाला नहीं है। उन्होंने कहा, ‘नूपुर शर्मा को गिरफ्तार क्यों नहीं किया जा रहा है? उन्हें देश के कानून के तहत गिरफ्तार किया जाना चाहिए। इतने दिन हो गए, उन्हें गिरफ्तार क्यों नहीं किया जा रहा है? उनके ऊपर कानूनी कार्रवाई करने से आपको कौन रोक रहा है? बीजेपी को क्या लग रहा है कि उन्हें सस्पेंड करने से मामला हल हो जाएगा? ऐसे यह मामला हल नहीं होगा। हमारी मांग है कि उनकी गिरफ्तारी होनी चाहिए।’

‘आप कौन होते हैं किसी का घर तोड़ने वाले?’
उत्तर प्रदेश समेत देश के कई हिस्सों में हिंसा एवं अन्य अपराधों के आरोपियों के घर और अवैध संपत्ति पर बुलडोजर चलाए जाने को लेकर भी ओवैसी ने अपनी बात कही। ओवैसी ने कहा कि किसी भी गुनाह पर सजा देने के लिए कोर्ट है, ऐसे में इस तरह की कार्रवाई सही नहीं है। ओवैसी ने कहा, ‘आप क्यों किसी का घर तोड़ते हैं? आप कौन होते हैं घर तोड़ने वाले? आरोप है तो कोर्ट तय करेगा कि क्या सजा देनी है। आप चीफ जस्टिस हैं? आप अदालत हैं? कोर्ट और जज की क्या जरूरत है जब आप ही सब कुछ कर देते हैं?’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *