केशव प्रसाद मौर्य समेत BJP के 9 और सपा के 4 कैंडिडेट निर्विरोध जीते, जानें कौन-कौन बना MLC

UP MLC Election 2022- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV
UP MLC Election 2022

Highlights

  • स्वामी प्रसाद मौर्य आज सपा से एमएलसी बने
  • यूपी में विधान परिषद की 13 सीटों पर होना था चुनाव
  • इस चुनाव में सबसे अधिक फायदे में रही है बीजेपी

UP MLC Election 2022: यूपी के योगी सरकार के सात मंत्री आज निर्विरोध एमएलसी बन गए। एमएलसी बनने वालों में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य भी शामिल है। केशव प्रसाद मौर्य कौशाम्बी की सिराथू सीट से विधान सभा चुनाव हार गए थे। अभी केशव प्रसाद मौर्य एमएलसी है लेकिन उनका कार्यकाल जुलाई में खत्म हो रहा है। चुनाव के ठीक पहले बीजेपी छोड़कर समाजवादी पार्टी में जाने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य आज सपा से एमएलसी बन गए। स्वामी प्रसाद मौर्य भी विधानसभा चुनाव हार गए थे।

भाजपा, सपा की तरफ से निर्वाचित हुए सदस्य-


बता दें कि यूपी में विधान परिषद की 13 सीटों पर भाजपा के नौ और सपा के चार प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित हो गए हैं। छह जुलाई को रिक्त होने वाली विधान परिषद की 13 सीटों के लिए चुनाव में सोमवार को नाम वापसी की अंतिम समयसीमा के बाद इसकी घोषणा कर दी गई। निर्वाचन अधिकारी बृजभूषण दुबे ने इसका औपचारिक ऐलान कर दिया।

UP MLC Election 2022

Image Source : INDIA TV

UP MLC Election 2022

केशव प्रसाद मौर्य के अलावा योगी सरकार के पंचायतीराज मंत्री भूपेन्द्र चौधरी, आयुष राज्यमंत्री दयाशंकर मिश्र दयालु, सहकारिता मंत्री जयेन्द्र प्रताप सिंह राठौर,  पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री नरेन्द्र कुमार कश्यप, औद्योगिक विकास राज्यमंत्री जसवंत सैनी और अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री मो. दानिश आजाद भी आज एमएलसी बन गए। मंत्री बने रहने के लिए इनका मंत्री बनने के 6 महीने के अंदर विधानसभा या विधान परिषद का सदस्य बनना जरूरी था। इनके अलावा कन्नौज से बीजेपी के पूर्व विधायक बनवारी लाल दोहरे और बीजेपी के मुकेश शर्मा भी आज निर्विरोध निर्वाचित हो गए।

यूपी में विधान परिषद की 13 सीटों पर चुनाव होना था। इनके लिए तेरह नामांकन किए गए थे। आज नाम वापसी की आखिरी तारीख थी। स्वामी प्रसाद मौर्य के अलावा समाजवादी पार्टी से मुकुल यादव, मो. शहनवाज खान और मो. जासमीर अंसारी एमएलसी बने।

UP MLC Election 2022

Image Source : INDIA TV

UP MLC Election 2022

उत्तर प्रदेश विधान परिषद की छह जुलाई को 13 सीटें खाली हो रही हैं। इसमें से भाजपा की तीन सीटें खाली हो रही हैं। वहीं, सपा पार्टी के छह सदस्यों का कार्यकाल पूरा हो रहा है। इनके अलावा बसपा के तीन और कांग्रेस की एक सीट खाली हो रही है। भाजपा इस चुनाव में सबसे अधिक फायदे में रही है। उसने नौ सीटों पर जीत दर्ज की है।

Leave a Comment