अब्दुल कलाम से लेकर केआर नारायणन तक, देश के अबतक के सबसे लोकप्रिय राष्ट्रपतियों के बारे में ये बातें जरूर जानें

अब्दुल कलाम से लेकर केआर नारायणन तक, देश के अबतक के सबसे लोकप्रिय राष्ट्रपतियों के बारे में ये बातें जरूर जानें
Spread the love
Image Source : FILE PHOTO
The most popular Presidents of India so far

Highlights

  • राष्ट्रपति चुनाव के लिए हुई तारीख की घोषणा
  • अगले महीने देश को मिलने वाला है नया राष्ट्रपति
  • अब तक भारत में रहे कितने काबिल महामहिम

President Election: राष्ट्रपति चुनाव के लिए निर्वाचन आयोग ने गुरुवार को तारीखों की घोषणा कर दी। देश के सांसद और विधायक नया राष्ट्रपति चुनने के लिए 18 जुलाई को वोट करेंगे। 18 जुलाई को डाले गए वोटों की गिनती 21 जुलाई को होगी और देश के नए राष्ट्रपति को चुन लिए जाएगा। बता दें कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई 2022 को पूरा हो रहा है। अब जब देश को अगले महीने नया राष्ट्रपति मिलने वाला है, ऐसे में हम एक नजर डालेंगे आजादी से लेकर अब तक के सबसे लोक​प्रिय राष्ट्रपतियों पर।

डॉ केआर नारायणन

डॉ केआर नारायणन भारत के पहले दलित राष्ट्रपति थे। नारायण का कार्यकाल 25 जुलाई 1997 से लेकर 25 जुलाई 2002 तक रहा। डॉ केआर नारायणन एक पत्रकार भी थे जिन्होंने ‘द हिंदू’ और ‘द टाइम्स ऑफ इंडिया’ जैसे अखबारों के साथ काम किया। नारायणन ने लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में हेरोल्ड लास्की से राजनीति विज्ञान का अध्ययन किया और 1949 में भारतीय विदेश सेवा (IFS) में शामिल हो गए। नारायण एक कर्मठ राष्ट्रपति के रूप में जाना जाता था।

केआर नारायणन ने त्रिशंकु संसद के दौरान सरकार बनाने के लिए किसे आमंत्रित किया जाए, इसको लेकर नियमों में बदलाव दिया। उनके कार्यकाल से पहले, भारत ने बहुत कम गठबंधन वाली सरकारें देखी थीं। तब नियम यह था कि सरकार बनाने के लिए सबसे बड़ी पार्टी के नेता को आमंत्रित किया जाता था। इस नियम का हॉर्स-ट्रेडिंग के लिए इस्तेमाल किया जा सकता था। इस नियम का उपयोग सरकार में विभिन्न भूमिकाओं का वादा करके सांसदों के समर्थन को “खरीदने” के लिए किया जा सकता था। नियम में बदलाव कर के आर नारायणन ने सबसे बड़ी पार्टी के नेता को बहुमत के सांसदों से समर्थन पत्र प्रस्तुत करने का नियम बनाया, ताकि यह साबित हो सके कि उन्हें सदन का समर्थन प्राप्त है।

डॉ केआर नारायणन ने भारतीय राजनीति में अब तक लिए गए सबसे साहसी फैसलों में से एक लेकर दिखाया। उन्होंने दो बिल वापस संसद में लौटाए जिनके तहत केंद्र सरकार एक राज्य सरकार को बर्खास्त करने की कोशिश करना चाह रही थी। ये एकमात्र ऐसे मामले हैं जहां राष्ट्रपति ने संविधान की पवित्रता बनाए रखने के लिए सीधे हस्तक्षेप किया।

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन

राष्ट्रपति बनने से पहले, डॉ राधाकृष्णन ने उपराष्ट्रपति के रूप में 10 वर्षों तक काम किया। माना जाता है कि वह भारत के अब तक के सबसे योग्य राष्ट्रपति थे। उन्होंने न केवल बीएचयू और आंध्र विश्वविद्यालय के चांसलर जैसे प्रतिष्ठित पदों पर कार्य किया, बल्कि कलकत्ता विश्वविद्यालय (1921-1932) में मानसिक और नैतिक विज्ञान के किंग जॉर्ज पंचम अध्यक्ष और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में पूर्वी धर्म और नैतिकता के स्पैल्डिंग प्रोफेसर (1936-1952) में भी कार्य किया।

1893 में पश्चिमी दुनिया के दिल माने जाने वाले शिकागो में लेक्चर देने वाले स्वामी विवेकानंद के बाद, डॉ राधाकृष्ण दूसरे दार्शनिक बने जिन्होंने पूर्व और पश्चिम की फिलॉस्पी को जोड़ा, जो कई लोगों के लिए दो समानांतर दुनिया की तरह हैं। राष्ट्रपति के रूप में, उन्होंने मृत्युदंड की निंदा की और उन्हें प्राप्त सभी 57 दया याचिकाओं को स्वीकार कर लिया। हर साल 5 सितंबर को उनके जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। डॉ राधाकृष्णन का कार्यकाल 13 जून 1962 से 13 जून 1967 तक रहा।

डॉ ए.पी.जे. अब्दुल कलाम

अब्दुल कलाम को ‘द पीपल्स प्रेसिडेंट’, गरिमा और सम्मान के व्यक्ति के रूप में जाना जाता था। एक वैज्ञानिक जिन्होंने भारत के मिसाइल शस्त्रागार में नए हथियार जोड़े। डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का एक वैज्ञानिक और बाद में राष्ट्रपति के रूप में भारत के लिए योगदान अद्वितीय है। कलाम 25 जुलाई 2002 से लेकर 25 जुलाई 2007 तक राष्ट्रपति रहे।

राष्ट्रपति कलाम को भारत के परमाणु और मिसाइल कार्यक्रम में उनके महान योगदान के लिए 1998 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। भारत की सेवा के अलावा जिसने अपने लिए कुछ भी नहीं चाहा, 2,500 किताबें, एक हाथ की घड़ी, छह शर्ट, चार पैंट, तीन सूट और एक जोड़ी जूते, डॉ कलाम की कुल संपत्ति बस इतनी ही थी। 

डॉ राजेंद्र प्रसाद

बिहार के एक स्वतंत्रता सेनानी, जिन्होंने देश को ब्रिटिश साम्राज्य की गुलामी की बेड़ियों को तोड़ते हुए देखा, डॉ राजेंद्र प्रसाद भारत के पहले और साथ ही सबसे लंबे समय तक सेवा करने वाले राष्ट्रपति थे। डॉ प्रसाद अपने राजनीतिक कौशल के लिए जाने जाते थे। उन्हें एक महान मानवतावादी के रूप में भी सराहा गया और इसका प्रमाण उनके द्वारा स्वीकार की गई दया याचिकाओं की संख्या को देखकर कहा जा सकता है। डॉ प्रसाद ने 181 दया याचिकाओं में से 180 को स्वीकार कर लिया और अदालत द्वारा दी गई मौत की सजा को बदल दिया। 1962 में उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। डॉ राजेंद्र प्रसाद 26 जनवरी 1950 से 13 जून 1962 तक राष्ट्रपति रहे।

डॉ जाकिर हुसैन

भारत के पहले मुस्लिम राष्ट्रपति, डॉ जाकिर हुसैन एक शिक्षाविद थे। उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कुलपति के रूप में कार्य किया और जामिया मिल्लिया इस्लामिया के संस्थापक सदस्यों में से एक थे। डॉ हुसैन 13 जून 1967 से 03 जून 1969 तक राष्ट्रपति रहे। वह पहले राष्ट्रपति थे जिनकी कार्यालय के दौरान मृत्यु हुई थी। 1963 में उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया। 

प्रणब मुखर्जी

अपने राजनीतिक कौशल के लिए जाने जाने वाले, डॉ प्रणब मुखर्जी (जिन्हें प्रणब दा के नाम से जाना जाता था) शायद एकमात्र ऐसे राष्ट्रपति थे जो देश के प्रधान मंत्री बनने से चूक गए। मुखर्जी ने विभिन्न विभागों में काम किया, वे एकमात्र भारतीय राजनेता थे, जिनके पास तीन विभाग थे – रक्षा मंत्रालय, वित्त मंत्रालय और विदेश मंत्रालय। प्रणब दा का राजनीतिक कौशल इंदिरा गांधी और जवाहरलाल नेहरू जितना ही अच्छा माना जाता था। प्रणब मुखर्जी साल 2012 से 2017 तक देश के राष्ट्रपति रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *