अग्निवीरों के लिए आनंद महिंद्रा ने की बड़ी घोषणा

Anand Mahindra- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV
Anand Mahindra

Highlights

  • अग्निपथ स्किम के विरोध में हो रहे प्रदर्शन पर जताया दुख
  • अग्निवीरों को भर्ती करेगा महिंद्रा समूह
  • अग्निवीरों में लीडरशिप क्वॉलिटी, टीम वर्क की क्षमता होगी – महिंद्रा

Agnipath: सेना की नई भर्ती योजना अग्निपथ के खिलाफ देशभर में विरोध-प्रदर्शन चल रहे हैं। कई जगह यह प्रदर्शन अत्यंत उग्र हो गए। इन्हीं सब के बीच महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने घोषणा की है कि अग्निवीरों को महिंद्रा ग्रुप में नौकरी करने का मौका दिया जाएगा। 

सोमवार सुबह आनंद महिंद्रा ने ट्वीट कर लिखा कि, “अग्निपथ योजना को लेकर हुई हिंसा से दुखी हूं। जब पिछले साल इस योजना पर विचार किया गया था,  मैंने कहा था- और मैं इसे फिर दोहराता हूं- अग्निवीरों द्वारा हासिल किया गया अनुशासन और कौशल उन्हें प्रमुख रूप से रोजगार योग्य बना देगा। महिंद्रा समूह ऐसे प्रशिक्षित, सक्षम युवाओं को नौकरी के अवसर देगा।”

कहां किया जाएगा इन्हें भर्ती 

एक यूजर के पूछने पर कि अग्निवीरों को क्या पोस्ट दी जायेगी तो इसपर उन्होंने बताया कि, ‘लीडरशिप क्वॉलिटी, टीम वर्क और शारीरिक प्रशिक्षण की वजह से अग्निवीर के रूप में इंडस्ट्री को बाजार के लिए तैयार पेशेवर मिलेंगे. ये लोग एडमिनिस्ट्रेशन, सप्लाई चेन और मैनेजमेंट में कहीं भी काम कर सकते हैं।” 

आपको बता दें कि केंद्र सरकार द्वारा लाई गई अग्निपथ स्किम के तहत ही अब तीनों सेनाओं में भर्तियां की जाएंगी। इसके तहत युवाओं को सेना में चार साल के लिए भर्ती किया जाएगा। जिसके बाद इन्हें रिटायर कर दिया जाएगा। साथ ही यह पूर्व सैनिक नहीं बल्कि पूर्व अग्निवीर कहलाए जाएंगे। स्किम के ऐलान के बाद से ही युवा इसका देशभर में विरोध कर रहे हैं। कई जगह विरोध-प्रदर्शन अत्यंत उग्र भी हो गया, जिसमें युवाओं ने ट्रेनों और बसों में आग तक लगा दी। 

आज बुलाया गया है भारत बंद 

वहीं अग्निपथ योजना के खिलाफ सेना में नौकरी की कोशिश कर रहे अभ्यर्थियों ने आज भारत बंद बुलाया है। विपक्ष ने भी भारत बंद की अपील का मूक समर्थन किया है। आज भारत बंद से निपटने के लिए रेलवे ने भी कमर कस ली है। RPF और GRP को उपद्रवियों से सख्ती से निपटने के निर्देश दिये गए हैं। कहा गया है कि हिंसा करने वालों पर कठोर धाराओं में केस दर्ज होंगे।



Source by [author_name]

Leave a Comment